Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

भारत में खेलना विदेशी टीमों के लिए मुश्किल नहीं रहा: राहुल द्रविड़

Posted by:
     Updated: Monday, December 17, 2012, 17:40 [IST]
 

भारत में खेलना विदेशी टीमों के लिए मुश्किल नहीं रहा: राहुल द्रविड़
 

नागपुर। भारत के पूर्व कप्‍तान और महान खिलाड़ी राहुल द्रविड़ ने इंग्‍लैंड द्वारा दो दशक बाद सीरीज जीतने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अब यूरोपीय टीमों के लिए भारत में खेलना ज्‍यादा मुश्किल नहीं रहा। अब विदेशी खिलाड़ी आईपीएल में खेलते हैं और घंटों प्रैक्टिस करते हैं। जिससे कि वह एशियाई हालातों के अनुकूल खुद को ढाल लेते है। राहुल का कहना है कि इंग्‍लैंड के बल्‍लेबाजों पर भारतीय स्पिन गेंदबाज ज्‍यादा असर नहीं डाल पाये। राहुल ने अपने विचार 'स्‍टार क्रिकेट' चैनल पर चौथे टेस्‍ट मैच के समाप्‍त होने के बाद दिये। यह ध्‍यान देने योग्‍य है कि इस सीरीज में इंग्‍लैंड के बल्‍लेबाजों ने स्पिन गेंदबाजों को जितनी कुशलता से खेला उतना पहले कभी भी नहीं खेल पाये।

अपनी कप्‍तानी में इंग्‍लैंड में भारत को सीरीज जिताने वाले राहुल ने कहा कि इस सीरीज में भारत की कमियां और मजबूती उजागर हो गयी हैं। इस सीरीज के परिणामों के मुताबिक गेंदबाजी में और सुधार किये जाने की जरूरत है। हमारे स्पिनर टर्निंग विकेट पर कोई प्रभाव नहीं छोड़ सके। इस हार को पचा पाना हमारे लिए बेहद मुश्किल होगा।

वहीं पूर्व कप्‍तान सौरव गांगुली ने कहा कि इस सीरीज में हारने के बाद भी कई बातें हमारे लिए सकारात्‍मक रहीं। उन्‍होने कहा‍ कि पहले टेस्‍ट मैच में वीरेंद्र सहवाग ने शतक लगाया तो चेतेश्‍वर पुजारा ने भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। उन्‍होने युवा विराट कोहली की तारीफ करते हुए कहा‍ कि वह सीरीज के शुरूआती मैचों में भले ही अच्‍छा न खेल सके हों लेकिन अंतिम मैच में उन्‍होने अपने टेस्‍ट टेम्‍प्रामेंट का प्रदर्शन किया। जो भारत के लिए बेहतर है। उन्‍होने टीम के कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्‍होने अंतिम टेस्‍ट में 99 रनों की पारी खेली जिसकी बदौलत टीम एक और हार टालने में कामयाब रही।

टीम में बदलावों की मांग किये जाने की बात पर उन्‍होने कहा कि टीम को इस हार से सीखने की जरूरत है‍ जो कि खेल का एक हिस्‍सा है। उन्‍होने कहा कि टीम में बदलाव की जरूरत मैं नहीं समझता। अगर मैं कप्‍तान होता तो इसी टीम के साथ आगे आने वाली सीरीज में भी खेलता। अब देखने वाली बात यह होगी कि चयनकर्ता आने वाली सीरीज में किस प्रकार के बदलाव करते हैं।

Story first published:  Monday, December 17, 2012, 17:36 [IST]
English summary
Rahul Dravid says now, its not difficult to play in India for European teams because a lot of foreign players come here, play in IPL and do hardwork.
कमेंट लिखें