Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

भारतीय स्पिनरों के आगे ढेर हुए कंगारू

     Published: Friday, March 22, 2013, 17:22 [IST]
 

नई दिल्ली। ऑस्‍ट्रेलिया-भारत सीरीज के अंतिम टेस्‍ट मैच का पहला दिन टीम इंडिया के पक्ष में रहा। भारतीय टीम के स्पिनों के आगे कंगारु बल्‍लेबाज ढेर होते हुए दिखाई दिये। पहले दिन मेहमान टीम 8 विकेट के नुकसान पर 231 रन ही बना सकी।

पहला सत्र बराबरी पर निकलने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में जारी चौथे टेस्ट मैच के पहले दिन शुक्रवार को अपने फिरकी गेंदबाजों की मदद से दूसरे सत्र में जोरदार वापसी की और पांच विकेट झटककर आस्ट्रेलिया को बैकफुट पर धकेल दिया। पांच बदलावों के साथ बेहतर नतीजे की उम्मीद से मैदान में उतरी आस्ट्रेलियाई टीम ने पहली पारी में भोजनकाल तक जहां दो विकेट पर 94 रन बनाए थे, वहीं चायकाल तक उसने 153 रनों पर सात विकेट गंवा दिए।

भारतीय स्पिनरों के आगे ढेर हुए कंगारू

भोजनकाल और चायकाल तक आस्ट्रेलिया ने 59 रन बनाए और पांच विकेट गंवाए। स्टीवन स्मिथ 25 और पीटर सिडल पांच रनों पर नाबाद लौटे। स्मिथ ने 104 गेंदों पर एक चौका और एक छक्का लगाया है। दूसरे सत्र में भारतीय स्पिनरों ने रविचंद्रन अश्विन के नेतृत्व में अपना जलवा दिखाया और पांच विकेट झटके। तीन विकेट अश्विन ने लिए जबकि दो विकेट रवींद्र जडेजा को मिले।

भोजनकाल तक एड कोवान 27 और कप्तान शेन वॉटसन 16 रनों पर नाबाद लौटे थे। दूसरे सत्र का पहला विकेट कोवान के रूप में गिरा। कोवान 106 रनों के कुल योग पर 38 रन बनाकर अश्विन की गेंद पर बोल्ड हुए। कोवान ने 99 गेदों पर सात चौके लगाए। इसके बाद लगा था कि वॉटसन और नए बल्लेबाज स्टीवन स्मिथ अपनी टीम के लिए कुछ खास करेंगे, लेकिन 115 रनों के कुल योग पर जडेजा ने वॉटसन को अपनी फिरकी में फंसाते हुए मेहमान टीम को चौथा झटका दिया।

वॉटसन ने 56 गेंदों पर तीन चौके लगाए। वॉटसन को कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने स्टम्पर किया। यह एक बेहतरीन गेंद थी, जिसे वॉटसन जरा सा भी पढ़ नहीं सके। उनका स्थान लेने आए विकेटकीपर बल्लेबाज मैथ्यू वेड के लिए वापसी रास नहीं आई। वह मात्र दो रन के निजी योग पर अश्विन की गेंद पर फारवर्ड शॉर्ट लेग पर मुरली विजय के हाथों लपके गए। वेड का विकेट 117 रनों के कुल योग पर गिरा। वेड ने पांच गेंदों का सामना किया। अब भारतीय टीम पूरी तरह हावी हो चुकी थी। इसी का नतीजा था कि एक छोर पर स्मिथ ने अपना विकेट बचाए रखा और दूसरे छोर पर विकेट गिरते रहे।

आस्ट्रेलिया का छठा विकेट ग्लेन मैक्सवेल के रूप मे गिरा। इंडियन प्रीमियर लीग की इस साल की नीलामी में 10 लाख डॉलर से अधिक की बोली पाने वाले मैक्सवेल जडेजा की एक घूमती गेंद को ठीक से पढ़ नहीं सके और अनावश्यक तौर पर ऊंचा शॉट खेलकर आउट हुए। मैक्सवेल का कैच इशांत शर्मा ने लपका। मैक्सवेल ने 10 रन बनाए। इसमें एक चौका और एक छक्का शामिल है। इसके बाद 136 रनों के कुल योग पर अश्विन ने मिशेल जानसन को बोल्ड करके आस्ट्रेलिया को सातवां झटका दिया। इस श्रृंखला में पहली बार खेल रहे जानसन तीन रन बना सके। उन्होंने हालांकि 22 गेंदों का सामना किया।

भोजनकाल से पहले भारत ने 'लोकल ब्वाय' इशांत शर्मा की उम्दा गेंदबाजी की बदौलत 94 रनों पर आस्ट्रेलिया के दो विकेट झटक लिए थे। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी कर रही मेहमान टीम ने इस सत्र में डेविड वार्नर (0) और फिलिप ह्यूज (45) के विकेट गंवाए। आस्ट्रेलिया का पहला विकेट चार रन के कुल योग पर गिरा लेकिन इसके बाद कोवान और ह्यूज ने दूसरे विकेट के लिए उम्दा बल्लेबाजी करते हुए 19.2 ओवरों में 67 रन जोड़े। ह्यूज ने 59 गेंदों पर 10 चौके लगाए लेकिन 71 रन के कुल योग पर इशांत ने उन्हें बोल्ड कर दिया।

भारतीय टीम चार मैचों की इस श्रृंखला 3-0 से अपने नाम कर चुकी है। उसने चेन्नई में खेला गया पहला टेस्ट मैच आठ विकेट से जीता था, जबकि हैदराबाद में उसने मेहमान टीम पर एक पारी और 135 रनों से जीत हासिल की थी। मोहाली के पंजाब क्रिकेट संघ मैदान पर खेले गए तीसरे मुकाबले में भारत ने छह विकेट से जीत हासिल करते हुए यह श्रृंखला अपने नाम कर ली थी। अब उसका लक्ष्य मेहमान टीम का सूपड़ा साफ करने का है। भारतीय टीम 4-0 से यह श्रृंखला जीतते हुए एक इतिहास कायम करना चाहेगी। उसने अपने 81 साल के टेस्ट इतिहास में अब तक एक बार भी इस अंतर से कोई श्रृंखला नहीं जीती है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

English summary
Australian cricketers suffered a familiar batting collapse on the first day of the fourth and final cricket Test being played at Kotla Ground.
कमेंट लिखें