Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

मुंबई टेस्ट : फिरकी में फंसा वेस्टइंडीज, 182 पर धराशायी

Posted by:
     Updated: Monday, December 9, 2013, 12:38 [IST]
 

मुंबई | प्रज्ञान ओझा और रविचंद्रन अश्विन की शानदार गेंदबाजी की बदौलत टीम इंडिया ने गुरुवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में शुरू हुए सचिन तेंदुलकर के विदाई टेस्ट में वेस्टइंडीज की पहली पारी 182 रनों पर समेट दी है। ओझा ने पांच और अश्विन ने तीन विकेट चटकाए। वेस्टइंडीज के लिए किरन पॉवेल (48) ने सर्वाधिक रन बनाए, जबकि अपना 150वां टेस्ट मैच खेल रहे शिवनारायण चंद्रपॉल 25 रन पर आउट हुए। सचिन के करियर के अंतिम टेस्ट मैच पर भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। वेस्टइंडीज के लिए शुरुआत में सब ठीक लग रहा था क्योंकि पॉवेल और क्रिस गेल लय में दिख रहे थे।

लेकिन समी ने कोलकाता के अपने शानदार सफर को जारी रखते हुए 25 के कुल योग पर गेल को अपनी गेंदों के जाल में फंसा लिया। गेल 11 रन के निजी योग पर स्लिप में रोहित शर्मा के हाथों लपके गए। गेल ने 17 गेंदों पर एक चौका लगाया। वेस्टइंडीज के लिए यह बड़ा झटका था लेकिन डारेन ब्रावो (29) और पॉवेल ने दूसरे विकेट के लिए 61 रनों की साझेदारी करते हुए इसकी भरपाई करने की कोशिश की। दोनों काफी अच्छा खेल रहे थे लेकिन अश्विन की फिरकी पर ब्रावो बल्ला लगा बैठे और धौनी ने उन्हें लपकने में कोई कोताही नहीं बरती।

मुंबई टेस्ट : फिरकी में फंसा वेस्टइंडीज, 182 पर धराशायी

ब्रावो ने 63 गेंदों पर पांच चौके और एक छक्का लगाया। उनका विकेट 86 के कुल योग पर गिरा। भोजनकाल तक दो विकेट गंवाने वाले वेस्टइंडीज ने दिन के दूसरे सत्र में आठ विकेट गंवा दिए। ब्रावो के बाद बल्लेबाजी करने उतरे मार्लन सैमुएल्स (19) का पॉवेल ज्यादा देर साथ नहीं दे सके और ओझा की गेंद पर शिखर धवन को कैच थमा बैठे। पॉवेल ने 80 गेंदों में चार चौके और एक छक्का लगाया।

पॉवेल के जाने के बाद चंद्रपॉल और सैमुएल्स के बीच वेस्टइंडीज की पारी की दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी हुई। दोनों ने मिलकर चौथे विकेट के लिए 43 रन जोड़े। ओझा ने मुरली विजय के हाथों सैमुएल्स को कैच कराकर यह साझेदारी तोड़ी। सैमुएल्स के जाने के बाद तो जैसे वेस्टइंडीज की पारी रेत का टीला साबित हुई और आखिरी छह बल्लेबाज मिलकर वेस्टइंडीज की पारी में 42 रन और जोड़ सके। वेस्टइंडीज के आखिरी चार बल्लेबाजों में तो तीन बिना खाता खोले लौट गए जबकि 11वें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए शैनन गाब्रिएल एक रन बनाकर ओझा का शिकार हुए।

इस बीच वेस्टइंडीज के कप्तान डारेन सैमी (0) का विकेट झटकते ही अश्विन ने भारत की ओर से सबसे तेज 100 विकेट चटकाने का कीर्तिमान भी रच डाला। धौनी ने भी ओझा की गेंद पर टिनो बेस्ट (0) का कैच लपकर अपने करियर का 250वां कैच लपकने की उपलब्धि हासिल की। भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद समी को एक-एक विकेट हासिल हुए।

दो मैचों की श्रृंखला में भारत 1-0 से आगे है। उसने कोलकाता में खेले गए पहले मैच में एक पारी और 51 रनों से जीत हासिल की थी। उल्लेखनीय है कि सचिन वानखेड़े स्टेडियम में अपने करियर का 200वां और अंतिम टेस्ट मैच खेल रहे हैं। वह इस मैच के बाद क्रिकेट के अलविदा कह देंगे।

Story first published:  Thursday, November 14, 2013, 15:15 [IST]
English summary
Pragyan Ojha grabbed a five-wicket haul as a disciplined effort from Indian bowlers backed by some pathetic West Indian batting saw the visitors bundled out for a paltry 182 at tea.
कमेंट लिखें