Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

बाउंस और स्विंग के आगे लाचार हुई टीम इंडिया, 141 रनों से हारी

Posted by:
     Updated: Monday, December 9, 2013, 11:55 [IST]
 

जोहांसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका में एकदिवसीय सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका के सामने 141 रनों से बड़ी हार का सामना करना पड़ा। भारत की तरफ से कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी की अफ्रीका की गेंदबाजी का सामना कर सके, उनके अलावा सभी बल्‍लेबाज संघर्ष करते ही नजर आये। धोनी ने 65, विराट कोहली ने 31 और रवींद्र जडेजा ने 29 रन बनाये। दक्षिण अफ्रीका के लिए डेल स्‍टेन और आर मैकलारन ने तीन-तीन और मार्कल तथा कैलिस ने एक-एक विकेट लिया।

इसके पहले टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीकी टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में चार विकेट पर 358 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका ने शुरुआत से ही मैच पर पकड़ बनाए रखा और भारतीय गेंदबाजों को पहले विकेट के लिए 29.3 ओवरों तक तरसाए रखा। हाशिम अमला (65) और क्वींटेन डे कुक (135) ने पहले विकेट के लिए 152 रन जोड़े। अमला को क्लीन बोल्ड कर मोहम्मद शमी ने इस शतकीय साझेदारी को तोड़ा। अमला ने 88 गेंदों का सामना कर पांच चौके और एक छक्का लगाया।

देखें स्‍कोरकार्ड

बाउंस और स्विंग के आगे लाचार हुई टीम इंडिया, 141 रनों से हारी

इसके बाद बल्लेबाज करने आए अनुभवी जैक्स कालिस (10) कुछ खास नहीं कर सके और वह समी के दूसरे शिकार बने। कालिस के जाने के बाद कुक ने अब्राहम डिविलियर्स (77) के साथ तीसरे विकेट के लिए तेज 75 रन जोड़े। दोनों बल्लेबाजों ने इस बीच 8.33 के औसत से ये रन बनाए। विराट कोहली ने 42वें ओवर की पांचवीं गेंद पर कुक को अपने ही हाथों लपक लिया। कुक के जाने से भारत को राहत तो मिली पर पांचवें क्रम पर बल्लेबाजी करने उतरे जेपी ड्यूमिनी (नाबाद 59)भारतीय गेंदबाजों को जरा भी राहत देने के मूड में नजर नहीं आए। इससे पहले कुक ने 121 गेंदों की अपनी पारी में 18 चौके और तीन छक्के जड़े। ड्यूमिनी और डिविलियर्स ने चौथे विकेट के लिए 7.4 ओवरों में धुआंधार बल्लेबाजी करते हुए 13.69 के औसत से 105 रन जोड़ डाले, और दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 300 के पार पहुंचा दिया। डिविलियर्स आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। समी को तीसरा विकेट थमाने से पहले डिविलियर्स ने 47 गेंदों का सामना किया और छह चौके तथा तीन छक्का जड़ा।

वहीं ड्यूमिनी ने अपनी तूफानी अर्धशतकीय पारी में 29 गेंदों का सामना किया और दो चौके तथा पांच छक्का लगाया। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का पहले क्षेत्ररक्षण चुनने का फैसला हालांकि गेंदबाजों के लिए खास नहीं रहा, क्योंकि शुरुआती गेंदबाजों भुवनेश्वर कुमार और मोहित शर्मा को पिच से कुछ खास स्विंग या उछाल मिलती नजर नहीं आई। मोहम्मद समी ने जरूर कुछ प्रभावशाली बाउंस डाले और विरोधी बल्लेबाजों को कुछ हद तक परेशान करने में कामयाब हुए।

उल्लेखनीय है कि यह वहीं स्टेडियम है जहां दक्षिण अफ्रीकी टीम एकदिवसीय इतिहास के सबसे उच्च स्कोर 434 रनों का 438 रन बनाकर सफलतापूर्वक पीछा कर चुकी है। हालांकि इस पिच पर अब तक सिर्फ दक्षिण अफ्रीका ही दो बार 300 से अधिक के लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा कर चुकी है। अन्य किसी टीम को यह उपलब्धि इस स्टेडियम में अब तक नहीं मिली है।

Story first published:  Friday, December 6, 2013, 10:25 [IST]
English summary
Indian batsmen were rattled by pace, bounce and swing on their first day in South Africa. The home team marched to a crushing 141-run victory to take a 1-0 lead in the three-match ODI series.
कमेंट लिखें