Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

जोहांसबर्ग टेस्ट :भारत ने दक्षिण अफ्रीका से मैच ड्रॉ करवाया

Posted by:
     Published: Monday, December 23, 2013, 14:30 [IST]
 

जोहांसबर्ग| वांडर्स स्टेडियम में रविवार को बेहद रोमांचक हो चले मुकाबले में हार के कगार पर पहुंच चुकी टीम इंडिया किसी तरह दक्षिण अफ्रीका से पहला टेस्ट मैच ड्रॉ करवाने में कामयाब रहा। क्रिकेट को लेकर कहावत मशहूर है कि यह अनिश्चितताओं का खेल है। क्रिकेट की यह कहावत रविवार को वांडर्स स्टेडियम में तब चरितार्थ हो गई, जब मैच के चौथे दिन 458 रनों के विशाल लक्ष्य का चौथी पारी में पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका के दो विकेट चटकाकर भारतीय टीम ने पहले तो मैच पर शिकंज कस लिया था। लेकिन आखिरी दिन रविवार को अब्राहम डिविलियर्स (103) और फाफ दे प्लेसिस (134) ने पांचवें विकेट के लिए 205 रनों की साझेदारी कर दक्षिण अफ्रीका को जीत के काफी करीब पहुंचा दिया।

हालांकि आखिरी दिन आखिरी सत्र में मैच का पासा एकबार फिर पलटा और आखिरी सत्र में तीन विकेट चटकाकर भारतीय गेंदबाजों ने दक्षिण अफ्रीका के ड्रॉ खेलने पर मजबूर कर दिया। एक समय दक्षिण अफ्रीका को 12 ओवरों में जीत के लिए 56 रनों की दरकार थी, और उसके छह विकेट भी शेष थे। डिविलियर्स और प्लेसिस की जोड़ी भी क्रीज पर डटी हुई थी। लेकिन इशांत शर्मा और मोहम्मद समी ने लगातार दो ओवरों में क्रमश: डिविलियर्स और जेपी ड्यूमिनी (5) के विकेट चटकाकर मैच में भारत की उम्मीदें जगा दीं।

जोहांसबर्ग टेस्ट :भारत ने दक्षिण अफ्रीका से मैच ड्रॉ करवाया

इस समय तक मैच बेहद रोमांचक हो चला था और एक छोर से प्लेसिस निडरता से डटे हुए थे, और लक्ष्य हासिल करने के प्रति कटिबद्ध नजर आ रहे थे। लेकिन मैच समाप्त होने से तीन ओवर पहले अजिंक्य रहाणे की सीधी थ्रो पर प्लेसिस का रन आउट होना दक्षिण अफ्रीका को जीत से दूर ले गया। अंतिम तीन ओवरों में भारतीय गेंदबाजों ने क्रीज पर नए-नए आए पुछल्ले बल्लेबाजों वेरनॉन फिलेंडर (25) और डेल स्टेन (6) को रन बनाने से रोककर मैच बचाने में सफलता हासिल कर ली। मैच के आखिरी दिन मैच का पासा पलटने वाले प्लेसिस ने अपनी 309 गेंदों की संघर्षभरी पारी में 15 चौके लगाए। प्लेसिस ने 395 मिनट मैदान पर बिताए। दूसरी ओर डिविलियर्स ने 168 गेंदों का सामना कर 12 चौके लगाए।

प्लेसिस और डिविलियर्स ने भोजनकाल से पहले जैक्स कैलिस (34) का विकेट गिरने के बाद हार की ओर जाती अपनी टीम को जीत के काफी नजदीक तक पहुंचाया। मैच के चौथे दिन दक्षिण अफ्रीका ने एल्विरो पीटरसन (76) की बदौलत दो विकेट पर 138 रन बना लिए थे। हालांकि पीटरसन पांचवे दिन अपने स्कोर में एक रन का भी इजाफा नहीं कर सके। पीटरसन को 143 रनों के कुल योग पर मोहम्मद समी ने बोल्ड कर भारत को बड़ी सफलता दिलाई। भारत की तरफ से मैच में मोहम्मद समी और जहीर खान पांच-पांच विकेट हासिल किए। भारत ने पहली पारी में 280 और दूसरी पारी में 421 रन बनाए थे। दक्षिण अफ्रीका पहली पारी में 244 रन बना सका था। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से वेरनॉन फिलेंडर ने सात और जैक्स कैलिस ने चार विकेट हासिल किए। 0-0 से बराबर रही टेस्ट श्रृंखला का आखिरी टेस्ट जीतकर अब दोनों ही टीमें श्रृंखला जीतने की कोशिश करेंगी।

English summary
They came close to record a historic win against India but eventually had to settle for a draw and South African batsman Faf du Plessis' says his team was satisfied with the end result.
कमेंट लिखें